टेस्टिंग का रिजल्ट नहीं आते तक अपने को कोरोना संक्रमित मरीज मानिए

0
149

रायपुर। कोरोना की दूसरी लहर ने नागरिकों को व्यापक रूप से प्रभावित किया है । कोरोना के लक्षण महसूस होते ही ,लोगों के जेहन में अनेक प्रकार के प्रश्न उठते हैं। इन्हीं महत्वपूर्ण पांच प्रश्नों का उत्तर रायपुर के नाक ,कान, गला विशेषज्ञ डॉ. राकेश गुप्ता दे रहे हैं।

सवाल: कोरोना का लक्षण शुरू हुआ है और टेस्टिंग में देरी हो रही है, तो क्या करना चाहिए ?

जवाब: जब तक टेस्टिंग का रिजल्ट नही आता , का तब तक आप अपने आप को कोरोना संक्रमित मरीज ही मानिए। होम आइसोलेशन के नियमों का पालन करें , संभव हो तो दवाई लेना शुरू करें। अपने चिकित्सक के संपर्क में रहे और वैसा ही व्यवहार करें जैसे कोरोना संक्रमित मरीज को निर्देशित किया जाता है।



सवाल: टेस्टिंग के रिजल्ट आने मैं देरी हो रही हो तो क्या करना चाहिए ?

जवाब: टेस्टिंग का रिजल्ट आने में देरी हो सकती है। आप होम आइसोलेशन में चले जाइए, परिवार के सदस्यों से अलग हो जाइए। संभव हो तो अपने चिकित्सक के मार्गदर्शन में दवाई खाना शुरू करिए और अपना तापमान, आक्सीजन सैचुरेशन और दूसरे प्रकार के लक्षण जो होते हैं, उनको मानिटर करिए, अपने चिकित्सक को बताइए कि आपको क्या दिक्कत हो रही है। दवाओं का सेवन तुरंत शुरू कर दें और टेस्टिंग का रिजल्ट आते तक लगातार वैसा ही व्यवहार करें जब जैसे कोरोना संक्रमित मरीज को निर्देशित किया गया है।

सवाल: अगर नेगेटिव रिजल्ट आया और तबियत बिगड़ रही है तो क्या करना चहिए ?

जवाब: यदि आपका टेस्ट नेगेटिव आया और आपको कोरोना संक्रमण है, तबीयत बिगड़ रही है। चिकित्सक से परामर्श करिये, दवाई लीजिए, तापमान और आक्सीजन सैचुरेशन लेते रहिए। किसी भी प्रकार का अन्य टेस्ट बगैर चिकित्सक के परामर्श के नहीं कराएं। यह आपके लिए घातक भी हो सकता है। घर के बाहर नहीं निकलना है, होम आइसोलेशन में रहना है, और तापमान और आक्सीजन सैचुरेशन यदि ठीक नहीं है, तो आपको चिकित्सक निगरानी में कोविड केयर सेंटर और अस्पताल में भर्ती होने का प्रयास करना है। होम आइसोलेशन की टीम आपको कोविड केयर सेंटर और अस्पताल में खाली बेड की संख्या के हिसाब से आपको भर्ती करेंगे।

सवाल: यदि परिवार में कोई एक व्यक्ति पाजिटिव हो तो अन्य लोगों को क्या सावधानी रखनी चाहिए?

जवाब: कोरोना दूसरी लहर मैं सामान्य रूप में देखने मे आया है कि पूरा का पूरा परिवार संक्रमित हो रहा है। ऐसे में पूरे परिवार को टेस्टिंग कराना है। परिवार के संक्रमित सदस्य से अलग हो जाना है। समूह में नहीं रहना है और आपस में वैसा ही व्यवहार करें जैसे एक दूसरे से कोरोना संक्रमित मरीज व्यवहार करता है। टेस्टिंग रिजल्ट का इंतजार करिए और संभव हो तो तब तक प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बी कांपलेक्स या दूसरे दवाये , जो डॉक्टर बताते है उनका सेवन शुरू कर देना चहिए।

सवाल: आक्सीजन स्तर 70 से 85 है और सरकारी अस्पतालों में बेड नहीं है तो क्या करें ?

जवाब: सबसे पहले आपके होम आइसोलेशन चिकित्सक को आप इनफार्म करें कि आक्सीजन का सिचुएशन कम हो रहा है। वह आपके लिए जब तक आक्सीजन बेड इंतजाम करें, तब तक आप सामाजिक संस्थाओं की मदद से संभव हो आक्सीजन कंसंट्रेटर का इंतजाम करें। कोविड केयर सेंटर में कुछ समय में आक्सीजन बेड की व्यवस्था हो जाती है। तब तक आक्सीजन बेड ना हो कोविड केयर सेंटर में आपको सरकारी संस्थाएं या होम आइसोलेशन की टीम भर्ती करेगी। सरकारी अस्पतालो में बेड की व्यवस्था यथासंभव जल्दी-जल्दी कराने का प्रयत्न किया जाता है।