टीआई ने किन्नरों के अध्यक्ष को थाने में बैठाया, धमकाने का भी आरोप

0
229

बिलासपुर।  किन्नरों के दो गुटों के बीच पुराना विवाद चल रहा है। इस मामले में सरकंडा टीआइ ने एक पक्षीय कार्रवाई करते हुए किन्नरों के अध्यक्ष को थाने में बैठा दिया। आरोप है कि इस दौरान उन्हें धमकी भी दी गई। इसके विरोध में किन्नरों ने मोर्चा खोल दिया है। शनिवार दोपहर किन्नरों ने इस मामले की शिकायत एसपी से की। वहीं पूरे दिन सिविल लाइन थाने के सामने किन्नर समुदाय की भीड़ जुटी रही।

शहर में किन्नरों की दो टोली है। दोनों अलग-अलग गुट से हैं। सिविल लाइन क्षेत्र के तालापारा निवासी राजा किन्नर एक समूह का अध्यक्ष है। किन्नरों की दूसरी टोली चांटीडीह के मेलापारा में रहती है। दोनों टोली अलग-अलग जगहों पर मांग कर अपना जीवन गुजारा करते हैं। समुदाय के अध्यक्ष राजा किन्नर का आरोप है कि कुछ समय पहले मोंटी नाम के युवक को राजा व उसके साथियों ने गाली-गलौज व धमकी दी है।

इस मामले की शिकायत विमला किन्नर, संगीता किन्नर, सब्बो किन्नर, सजी किन्नर, साहिल, वसीम व अन्य ने मिलकर राजा के खिलाफ शिकायत कर दी, जिस पर सरकंडा टीआइ जेपी गुप्ता ने राजा किन्नर को पकड़कर थाने में बैठा दिया। इस दौरान राजा किन्नर ने अपनी शिकायत की और आरोपों को झूठा बताया। फिर भी टीआइ गुप्ता ने उनकी एक नहीं सुनी। इससे नाराज किन्नर समुदाय की भीड़ शनिवार को एसपी आफिस पहुंच गई।

रायपुर में समझौता कराने के बहाने बुलाया और धमकी दी

किन्नर समुदाय के अध्यक्ष राजा किन्नर ने बताया कि बीते 18 फरवरी को उन्हें चांटीडीह के किन्नर आपस में समझौता करने की बात को लेकर रायपुर ले गए थे। इस दौरान रायपुर में उनके साथ गाली-गलौज व मारपीट कर धमकी दी गई। उनके साथ वसीम, साहिल सहित अन्य युवक भी गुंडागर्दी कर रहे थे।

रायपुर से गुंडे बुलाकर हमला करने की कोशिश

राजा किन्नर ने बताया कि विवाद करने वाले किन्नरों के द्वारा रायपुर से दस से बारह गाड़ियों में किन्नर व गुंडों को बुलाकर मारपीट करने व उन पर दबाव बनाने की कोशिश की जा रही है। इसके चलते किन्नर समुदाय में आक्रोश है। उन्होंने इस मामले में कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन करने की चेतावनी भी दी है।

राजा के हैं 70 चेले व नाती

इस पूरे विवाद का जड़ किन्नर समुदाय के गुस्र् को लेकर है। राजा किन्नर के साथ 70 चेला व नाती हैं जो उन्हें गुुस्र् मानकर उनके साथ काम करते हैं। वहीं चांटीडीह के किन्नर इस गुट पर कब्जा करने की कोशिश में है। इसी को लेकर दोनों समुदाय के बीच विवाद चल रहा है।