छत्तीसगढ़ में नहीं थम रही कोरोना की रफ्तार, 24 घंटे में मिले 10 हजार से ज्यादा केस

0
140

रायपुर- छत्तीसगढ़ में कोरोना की रफ्तार लगातार तेज होती जा रही है. सूबे में पहली बार 10 हजार से ज्यादा मरीज मिले हैं. संक्रमण की वजह से 53 लोगों की मौत हो गई है। ताजा आकड़ों के मुताबिक बीते 24 घण्टे में रिकॉर्ड 10310 नए मरीज मिले हैं।राजधानी रायपुर में सबसे ज्यादा मरीज मिले हैं तो वहीं दुर्ग दूसरे नंबर पर है। नए केस सामने आने के बाद अब एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 58883 । संक्रमण की वजह से अब तक 4469 लोगों की मौत हुई है। कोरोना की वजह से अब तक 333227 मरीज रिकवर हुए हैं।

रायपुर में 24 घंटे में रिकॉर्ड 3302 मरीज मिले हैं तो वहीं दुर्ग में 1664 नए मरीजों की पुष्टि हुई है। इसी कड़ी में राजनांदगांव में 873 नए मरीज, बिलासपुर में 600, बलौदाबाजार में 427, महासमुंद में 407, बालोद में 316, बेमेतरा में 308, कोरबा में 269, कवर्धा में 250, सरगुजा में 240, धमतरी में 219, जांजगीर में 171 और जशपुर में 167 नए मरीज मिले हैं।

रायपुर में लगा लॉकडाउन

छत्तीसगढ़ सरकार ने बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए अब कड़े कदम उठाने शुरू कर दिए हैं. इसी के चलते अब रायपुर में पूर्ण लॉकडाउन लगाने का फैसला किया गया है. जानकारी के अनुसार ये लॉकडाउन 9 अप्रैल से 19 अप्रैल तक लगाया जाएगा. रायपुर कलेक्टर ने इस संबंध में निर्देश भी जारी कर दिए हैं. पूर्ण लॉकडाउन के दौरान जिले की सीमाओं को भी सील कर दिया जाएगा।

कलेक्टर की ओर से जारी निर्देशों के अनुसार लॉकडाउन के दौरान सभी शराब की दुकानें बंद रहेंगी, इसके साथ ही सभी शासकीय और आर्ध शासकीय कार्यालय, बैंक आदि भी बंद रहेंगे. हालांकि उद्योगों को ये छूट दी गई है कि यदि लेबर उद्योग परिसर के अंदर ही रहती है तो उसका संचालन किया जा सकता है. इसके साथ ही कोई भी धार्मिक स्‍थान नहीं खुलेंगे. नवरात्रों के दौरान भी मंदिरों को बंद ही रखा जाएगा. वहीं लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने पर प्रशासन की तरफ से कड़ी कार्रवाई करने की बात भी कही गई है।

छत्तीसगढ़ में भी परीक्षाएं टालने की मांग

छत्तीसगढ़ में भी बोर्ड परीक्षाएं टालने की मांग उठने लगी हैं. कोरोना संक्रमण को लेकर विद्यार्थी और उनके अभिभावक भी चिंतित हैं. अभिभावकों ने मांग की है कि परीक्षाएं आगे बढ़ा देना चाहिए. दुर्ग से विधायक अरूण वोरा ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर 15 अप्रैल से होने वाली 10वीं की बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग की है. उन्होंने अपने पत्र में छत्तीसगढ़ शिक्षक कांग्रेस, भिलाई के अनिल शुक्ला के संलग्न पत्रक का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से परीक्षाओं को स्थगित करने का अनुरोध किया है।