4 अप्रैल को होना था कुर्मी समाज का चुनाव, स्थगित होने से मामला गरमाया

0
169

रायपुर। सामाजिक स्तर पर होने वाला छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा एवं चर्चित कुर्मी समाज का चुनाव एक बार फिर से प्रदेशभर में चर्चा का विषय बन गया है। चार अप्रैल को होने वाले चुनाव को कोरोना महामारी के चलते स्थगित कर दिया गया है। इसे लेकर प्रत्याशियों में मतभेद उभरकर सामने आ रहा है।

प्रत्याशियों का मानना है कि साजिश के तहत चुनाव को स्थगित करवाया गया है। इसे लेकर दो अप्रैल को बंगोली गांव में फिर से बैठक बुलाई गई है ताकि चुनाव करवाया जा सके। तात्यापारा स्थित सामाजिक भवन में चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों की बैठक हुई।

इसमें कुछ प्रत्याशी शामिल हुए और एक मत से चुनाव कराने की हामी भरी । अब एक आवेदन चुनाव अधिकारी अनिल वर्मा को सौंपा जाएगा। प्रत्याशियों का कहना है कि कोरोना महामारी के बहाने से चुनाव को स्थगित किया गया है, जबकि सामाजिक चुनाव शासन के नियमों का पालन करते हुए संपन्न करवाया जा सकता था।

10 में से छह राजप्रधान में था चुनाव

छत्तीसगढ़ में कुर्मी समाज के 10 राजप्रधान क्षेत्र हैं, इनमें से छह राजप्रधान का कार्यकाल खत्म हो चुका है और यहां चुनाव होना है। इनमें दुर्ग, पलारी महिलाओं के लिए आरक्षित है। इसके अलावा तिल्दा, बलौदबाजार, रायपुर, धमधा में चुनाव होना था।

कलेक्टर ने नहीं दी अनुमति

केंद्रीय अध्यक्ष पद के प्रत्याशी चोवाराम वर्मा का कहना है कि पूर्व केंद्रीय अध्यक्ष डॉ. रामकुमार सिरमौर, चुनाव अधिकारी अनिल नायक एवं अन्य लोग चुनाव की अनुमति लेने कलेक्टर के पास गए। कलेक्टर ने कोरोना महामारी को देखते हुए अनुमति नहीं दी, जबकि चुनाव की सभी तैयारियां पूरी हो चुकी है। दूसरी ओर चुनाव अधिकारी का कहना है कि कोरोना के कारण जब सभी सामाजिक आयोजनों पर रोक लगी है, ऐसे में अनुमति लिए बिना हम चुनाव नहीं करवा सकते।