Video : QR CODE Scan & Pay से कैसे हो रही है ठगी, SBI ने किया ग्राहकों को सचेत, जारी किया ALERT

0
111

State Bank of India (SBI) ने अपने ग्राहकों को QR CODE स्कैन को लेकर आगाह किया है. SBI ने लोगों को सचेत किया है कि जब तक भुगतान का उद्देश्य न हो, किसी के द्वारा साझा किए गए QR CODE को स्कैन न करें. कोरोना महामारी के समय ऑनलाइन पेमेंट आवश्यक हो गया है. हालांकि, ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करते समय बेहद सतर्क रहना चाहिए. टेक्नोलॉजी ने हमारे जीवन का काफी आसान बना दिया है, लेकिन साइबर ठग के लिए भी ठगी करना आसान हो गया है.

QR CODE लोगों को धोखा देने के लिए उनके लिए एक तेजी से लोकप्रिय तरीका बन गया है. अधिक से अधिक लोग ऑनलाइन ट्रांजेक्शन की ओर बढ़ रहे हैं, उसी से संबंधित धोखाधड़ी भी बढ़ रही है.

SBI Alert

एसबीआई ने ट्वीट किया है, ‘जब आप एक क्यूआर कोड स्कैन करते हैं तो आपको पैसे नहीं मिलते हैं. आपको केवल एक संदेश मिलता है कि आपका बैंक अकाउंट ‘XX’ राशि के लिए डेबिट किया गया है. अगर आपको भुगतान न करना होतो किसी के द्वारा शेयर किए क्यूआर कोड को स्कैन बिल्कुल न करें. हमेशा सर्तक रहें.’ SBI ने ढाई मिनट का एक वीडियो भी शेयर किया है जिसमें यह बताया गया है कि क्यूआर कोड को स्कैन करने से वास्तव में आपके बैंक खाते से पैसे कैसे डेबिट हो जाएंगे.

साथ ही याद रहे कि क्यूआर कोड को केवल भुगतान करने के लिए स्कैन करने की आवश्यकता है न कि धन प्राप्त करने के लिए.

क्यूआर कोड धोखाधड़ी कैसे होती है?

घोटाले की शुरुआत किसी ऑनलाइन बिक्री वेबसाइट पर किसी प्रोडक्ट को डालने से होती है. तभी धोखेबाज खरीदार के रूप आता है और टोकन राशि का भुगतान करने के लिए क्यूआर कोड साझा करते हैं. वे फिर एक क्यूआर कोड बनाते हैं और इसे वॉट्सएप या ईमेल के माध्यम से इच्छित शिकार के साथ साझा करते हैं. वे पीड़ित को उनके द्वारा भेजे गए क्यूआर कोड को स्कैन करने के लिए कहेंगे ताकि वे सीधे उनके बैंक खातों में धन प्राप्त कर सकें. उन पर विश्वास करते हुए, पीड़ित धोखेबाजों द्वारा भेजे गए क्यूआर कोड को स्कैन करते हैं, यह मानते हुए कि उन्हें उनके खाते में पैसा मिल जाएगा, लेकिन वे पैसे खो देते हैं.