टूल किट मामले में गिरफ्तारी देने थाने पहुंचे रमन सिंह, दल बल के साथ धरने पर

0
168

रायपुर । टूलकिट मामले में छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का मामला सियासी रंग लेता जा रहा है। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री इसके विरोध में अपनी गिरफ्तारी देने के लिए सोमवार को सिविल लाइन थाने पहुंचे। यहां पुलिस ने उन्हें पुलिस स्टेशन के बाहर ही रोक दिया। इस पर रमन सिंह थाने के बाहर ही धरने पर बैठ गए हैं। वह अपनी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। उनके साथ विष्णुदेव साय, धरमलाल कौशिक, बृजमोहन अग्रवाल और राजेश मूणता जैसे वरिष्ठ नेता भी धरने पर बैठ गए हैं।

इस मामले में राजनीतिक सरगर्मियां अचानक बढ़ गई हैं. छत्तीसगढ़ बीजेपी ने प्रदेशव्यापी आंदोलन का ऐलान कर दिया है। प्रदेश के सभी थानों में रमन सिंह के समर्थन में भाजपाई कार्यकर्ता अपनी गिरफ्तारी देने पहुंचे हैं। वहीं 5-5 की संख्या में सभी थानों पर भाजपाई प्रदर्शन करेंगे. बता दें कि टूलकिट एफआईआर के विरोध में सरकार के खिलाफ भाजपा का प्रदर्शन जारी है।

देशभर में टूलकिट विवाद का सबसे ज्यादा असर छत्तीसगढ़ में देखने को मिल रहा है। छत्तीसगढ़ में सत्ताधारी दल कांग्रेस पहले बीजेपी पर हमलावर हुई तो इससे एक कदम आगे बढ़कर पुलिस प्रशासन ने बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ संबित पात्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर पूछताछ का नोटिस भेज दिया।

पुलिस द्वारा भेजे गए नोटिस के अनुसार राजधानी रायपुर की सिविल लाइन पुलिस 24 मई को दोपहर 12:30 बजे रमन सिंह के निवास स्थान जाकर उनसे पूछताछ करेगी। इस पर बीजेपी ने बड़ा दांव चलते हुए रमन सिंह सहित कुल 5 नेता आज सुबह 10 बजे सिविल लाइन थाने पहुंचकर अपनी गिरफ्तारी की मांग की।

रायपुर के सिविल लाइन पुलिस ने जिस टूलकिट मामले में एफआईआर दर्ज कर सिंह को नोटिस जारी कर पूछताछ के लिए समय तय किया है, उससे पहले ही डॉ सिंह द्वारा थाने पहुंचकर गिरफ्तारी देने की मांग के तहत पुलिस के सामने उलझन पैदा हो गई है. पुलिस ने जिन्हें आरोपी बनाया है, वही जब खुद गिरफ्तारी देने थाने पहुंचे तो पुलिस की परेशानी बढ़ गई।