पद्मश्री फूलबासन को अमिताभ ने बनाया बहन, छत्तीसगढ़ की फूलबासन ने जीते 50 लाख

0
135

 

‘कौन बनेगा करोड़पति 12 में इस हफ्ते की कर्मवीर थीं। छत्तीसगढ़ की पद्मश्री फूलबासन बाई यादव फुलबासन अपनी संस्था ‘मां बम्लेश्वरी जनहित समिति’ के जरिए समाज सेवा करती हैं। इस हफ्ते हॉट सीट पर उनके साथ थीं अभिनेत्री रेणुका शहाणे 50 वर्ष की फूलबासन यादव छत्तीसगढ़ की आर्थिक और सामाजिक रूप से पिछड़ी महिलाओं के विकास के लिए काफी परिश्रम कर रही हैं।
आत्मनिर्भर बनने के लिए फूलबासन का गरीबी से संघर्ष और फिर दूसरों को सशक्त बनाने का योगदान काफी प्रेरणादायक है. अपने स्वयंसेवी समिति के जरिए फूलबासन ने महिलाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा किए और उनको आर्थिक सुरक्षा दी।

जीतकर गईं 50 लाख रुपये

50 लाख के सवाल पर अमिताभ बच्चन ने फूलबासन और रेणुका से सवाल किया- इनमें से कौन एक पर्यावर्णविद थीं, जिन्हें अपने राज्य हिमाचल प्रदेश में अवैध खन्न के खिलाफ लड़ाई लड़ने और जोरदार आवाज उठाने के लिए जाना जाता है. इस सवाल के विकल्प थे – 1. किंकरी देवी, 2. दया बाई, 3. मानसी प्रधान, 4. चुनी कोटल।
इस सवाल का जवाब रेणुका और फूलबासन दोनों की ही नहीं पता था। उन्होंने केबीसी एक्सपर्ट की मदद ली, जिन्होंने जवाब दिया- किंकरी देवी, जो कि सही सवाल था।इसके साथ ही फूलबासन 50 लाख रुपये जीत गईं. इतना ही नहीं वह इस सीजन की पहली कंटेस्टेंट बनीं, जो कि इतनी रकम जीतकर गईं।

फुलबासन सिर्फ यही नहीं बल्कि स्वच्छता, स्वास्थ्य और जलापूर्ति जैसी गांव की जरूरतों का भी ख्याल रख रही हैं।खुद दस साल की उम्र में शादी के बंधन में बंधने वालीं फूलबासन बाल विवाह के खिलाफ जागरूकता भी फैला रही हैं. इसके अलावा उन्होंने गांव में नशा मुक्ति अभियान चलाने के लिए एक ‘महिला फौज’ भी तैयार की है, ताकि वो घरेलू हिंसा के मामलों पर लगाम लगा सकें।

अमिताभ बच्चन ने फूलबासन यादव से पूछा कि वो आर्थिक लेन-देन में हिसाब-किताब की बारीकियां कैसे समझ पाती हैं और इतना बड़ा संस्थान कैसे चलाती हैं. तब फूलबासन ने जवाब दिया, “जब आप अकेले रहते हैं, तो ये चीजें कभी आपके दिमाग में नहीं आतीं. उदाहरण के लिए यदि आप किसी कुत्ते या बिल्ली को पत्थर मारेंगे तो वो भाग जाएंगे।लेकिन कभी मधुमक्खी के छत्ते पर पत्थर मारकर देखिए! मधुमक्खियां आप पर हमला कर देंगी। यह संगठन की शक्ति है।”
उन्होंने बड़ी सादगी से यह बात समझाई कि जब आप अकेले होते हैं। तब आपमें घबराहट होती है।लेकिन साथ मिलकर आप एक सामूहिक शक्ति बन जाते हैं।जिसे कोई रोक नहीं सकता।
अमिताभ बच्चन ने माना बहन
फूलबासन के नजरिए और उनकी इच्छाशक्ति से प्रभावित होकर अमिताभ बच्चन और रेणुका शहाणे, दोनों ने ही उनकी हौसला अफजाई की और उनकी जीत को सेलिब्रेट भी किया।अमिताभ बच्चन की फिल्में फूलबासन को काफी पसंद हैं।बिग बी उन्हें कहते हैं कि वो उनके भाई जैसे हैं।उस पर अमिताभ बच्चन ने उन्हें कहां, ‘आपने मुझे भाई बोला है, तो आगे से मुझे सर मत बोलिये भैया कहिये।’ इस पर फूलबासन बिग बी को ‘भैया जी’ कहकर पुकारने लगीं।
हॉट सीट पर फूलबासन यादव का साथ दे रहीं रेणुका शहाणे ने कहा, “फूलबासन की कहानी सुनकर मैंने महसूस किया कि मैं शिक्षित जरूर हूं।पर मुझे बुरा लगता है क्योंकि शिक्षित होने के बावजूद मेरे मन में कभी समाज के लिए ऐसी चीजें करने का ख्याल नहीं आया, जिस तरह उन्होंने पूरी हिम्मत के साथ यह किया है।शायद इस शो के बाद मैं ऐसा कुछ करना चाहूंगी.” फूलबासन यादव से बात करते हुए रेणुका ने आगे कहा, “आज दो लाख महिलाएं आपके साथ जुड़ी हुई हैं और अब से दो लाख एक मुझे भी जोड़ दीजिए उसमें.”