राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस, एनर्जी बचाना आपकी भी है जिम्मेदारी

0
188

राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस भारत में प्रतिवर्ष में मनाये जाने वाले राष्ट्रीय दिवसों में से एक है । राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस प्रतिवर्ष पूरे भारत में ’14 दिसम्बर’ को मनाया जाता है। भारत में ‘ऊर्जा संरक्षण अधिनियम’ वर्ष 2001 में ‘ऊर्जा दक्षता ब्यूरो’ द्वारा स्थापित किया गया था। ऊर्जा दक्षता ब्यूरो एक संवैधानिक निकाय है, जो भारत सरकार के अंतर्गत आता है और ऊर्जा का उपयोग कम करने के लिए नीतियों और रणनीतियों के विकास में मदद करता है। भारत में ऊर्जा संरक्षण अधिनियम का उद्देश्य पेशेवर, योग्य और ऊर्जावान प्रबंधकों के साथ ही लेखा परीक्षकों को नियुक्त करना है, जो ऊर्जा दक्षता परियोजनाओं को लागू करने और ऊर्जा, परियोजनाओं, नीति विश्लेषण, वित्त प्रबंधन में विशेषज्ञ हों।

क्या है ऊर्जा संरक्षण

राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस लोगों को ऊर्जा के महत्व के साथ ही साथ बचत और ऊर्जा की बचत के माध्यम से संरक्षण के बारे में जागरूक करना है। ऊर्जा संरक्षण का सही अर्थ है- ” ऊर्जा के अनावश्यक उपयोग को कम करके कम ऊर्जा का उपयोग कर ऊर्जा की बचत करना ।”

बिजली बचाने के उपाय

  • जब उपयोग में न हो तब बल्ब या लाइट, एसी और पंखों को बंद कर दें।
  • ट्यूब लाइट, बल्बों और अन्य उपकरणों पर जमी धूल को नियमित रूप से साफ करें।
  • अपनी ट्यूब लाइट और बल्बों को ऐसी जगह लगाएं जहां लाइट आने में दिक्कत न हो।
  • ऊर्जा बचाने के लिए सीएफएल बल्ब का प्रयोग करें।
  • एसी, फ्रिज, ब्लब ब्यूरो ऑफ़ एनर्जी इफिशियंसी की 5 स्टार रेटिंग वाले ही लें।
  • फ्रिज का दरवाजा बार-बार खोलने बंद करने से बिजली की खपत बढ़ती है।
  • गीजर में अधिकतम बिजली खर्च होती है अतः उतना पानी गरम करें जितनी जरूरत है।
  • दिन में प्राकृतिक रोशनी का अधिकतम उपयोग करें।
  • हीटर, ब्लोअर का कम से कम इस्तेमाल करें।

रसोई गैस बचाने के टिप्स

  • खाना पकाते समय बर्तन ढक कर रखें।
  • गैस को हल्का जलाएं। गैस स्टोव के बर्नर समय समय पर साफ़ करते रहें।
  • पकाने से पहले फ्रिज में रखा सामान निकालकर उसे सामान्य तापमान पर लाएं।
  • प्रेशर कुकर का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें।

बचाएं पेट्रोल-डीजल

  • निजी वाहनों से ज्यादा पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करें।
  • सप्ताह में कम से कम एक दिन साइकिल चलाएं।
  • ऑफिस या किसी समारोह में जाते समय कार की शेयरिंग करें।
  • जाम या लालबत्ती होने पर वाहन बंद कर दें।
  • बैटरी से चलने वाले वाहनों का इस्तेमाल करें।
  • टायर प्रेशर समय समय पर चेक करते रहें।

उद्देश्य

अत्यधिक और फ़ालतू में ही ऊर्जा के उपयोग के स्थान पर कम ऊर्जा के प्रयोग के लिये लोगों को प्रोत्साहित करना।