पूर्व IAS O.P. Chaudhari ने कहा- छत्तीसगढ़ में मुन्ना भाई पैदा हो रहे हैं

0
179

रायपुर । रायपुर के एकात्म परिसर में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए बीजीपी के नेता ओपी चौधरी ने कहा- लोक सेवा आयोग (PSC) के चेयरमैन को सहायक प्राध्यापक की परीक्षा में शामिल हुए अभ्यर्थी वीरेंद्र पटेल का पत्र लिखा जाना अपने आप में संदेहस्पद स्थिति है। प्रदेश में मुन्ना भाई पैदा हो रहे हैं। शेष पढ़ें विज्ञापन के बाद…

Advertisement


उन्होंने कहा कि वीरेंद्र पटेल ने आयोग के चेयरमैन को पत्र लिखकर बताया था कि 5 नवंबर को हुई सहायक प्राध्यापक की परीक्षा में मेरे पीछे वाला अभ्यर्थी उपस्थित नहीं था। बावजूद इसके उस अभ्यर्थी का साक्षात्कार के लिए जारी सूची में रोल नंबर मौजूद है।

ओ पी चौधरी ने कहा कि आयोग ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर त्रुटी या गड़बड़ी से इनकार करते हुए सब कुछ ठीक होने का दावा किया है। चौधरी ने मांग उठाई की जिन अभ्यार्थियों के बयान के अनुसार विरेंद्र पटेल की शिकायत को आयोग ख़ारिज कर रही है , उनके बयान का वीडियो सार्वजनिक करना चाहिए, इससे जो युवाओं में संदेह की स्थिति है, वह साफ होगी।

इधर बुधवार को लोक सेवा आयोग ने एक और प्रेस विज्ञप्ति जारी की है, प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार पिछले 10 माह में कोरोना संक्रमण की परिस्थितियों के बावजूद भी विभिन्न विभाागों के 2 हजार 480 पदों पर चयन की कार्यवाही की गई है।जबकि पूर्व के वर्षों में सामान्य परिस्थिति में भी जहां एक साल में केवल एक परीक्षा हो पाती थी और इस परीक्षा के आयोजन में भी 2 से 3 वर्ष की अवधि लगती थीं।

आयोग ने बताया कि सहायक प्राध्यापक परीक्षा 2019 की 1384 पदों की 5 से 8 नवम्बर 2020 को लिखित परीक्षा ली गई, जिसका परिणाम 19 जनवरी 2021 को घोषित किया जा चुका है। अभ्यर्थियों को साक्षात्कार 9 फरवरी 2021 से लिया जा रहा है। इसी तरह व्यवहार न्यायाधीश के 39 पदों के लिए 21 सितम्बर 2020 को लिखित परीक्षा का आयोजन किया गया। आयोग ने बताया परीक्षा परिणाम 13 अक्टूबर 2020 को घोषित करते हुए 7 नवम्बर 2020 को चयन सूची जारी की गई। व्यवहार न्यायाधीश की लिखित परीक्षा का परिणाम एक माह के भीतर ही जारी किया गया और 20 दिवस के भीतर चयन सूची जारी कर अनुशंसा पत्र विभाग को भेजने की कार्यवाही की गई। आयोग ने इसके अलावा बीते दो सालों में की गई भर्ती और की जानी वाली भर्ती का जिक्र भी विज्ञप्ति में किया है।