मोवा, न्यू राजेन्द्र नगर, समता कॉलोनी, कटोरा तालाब और शहर के कई इलाकों को घोषित किया जा सकता है कंटेनमेंट जोन

0
287

रायपुर । राजधानी रायपुर में कंटेनमेंट जोन का दौर फिर लौट आया है। छत्तीसगढ़ में एक बार फिर लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण और रायपुर में रोज आ रहे सर्वाधिक नए मरीजों की संख्या को देखते हुए यह व्यवस्था की जा रही है।

रायपुर कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने ऐसे इलाकों को कंटेनमेंट जोन बनाने को कहा है, जहां संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। प्रभावित इलाकों को रोज सैनिटाइज करने को भी कहा गया है।लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण और नए मरीजों की संख्या को देखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जल्द ही एक बड़ी बैठक लेगें। संभावित 21 मार्च को यह बैठक हो सकती है। बैठक में संक्रमण रोकने के लिए अहम निर्णय लिए जा सकते हैं। आपको बता दे कोरोना संक्रमण के मामले में छत्तीसगढ़ देश के 6 वें स्थान पर पहुंच गया है।

वही रायपुर कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने कहा कि जरूरत पड़ी तो ऐसे इलाकों को कंटेनमेंट जोन आंकड़ों के आधार पर किया जा सकता है। रायपुर शहर में मरीजों के बढ़ते आंकड़ों वाले क्षेत्र खम्हारडीह, मोवा, अमलीडीह, न्यू राजेन्द्र नगर, समता कॉलोनी, रामकुन्ड, डंगनिया,डीडी नगर, टाटीबंध, कटोरा तालाब, पचपेड़ी नाका, अवंति विहार, हीरापुर तथा रायपुर जैसे क्षेत्रों में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए ऐसे व्यापक रूप से प्रभावित हो रहे क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया जा सकता है।

डॉ. भारतीदासन ने कोरोना मरीजों के लिए विशेष रूप से बनाए गए तीनों अस्पतालों को तैयार रखने को कहा। इनमें माना हॉस्पिटल, लालपुर हॉस्पिटल और आयुर्वेदिक कॉलेज हॉस्पिटल शामिल हैं।इन्हें शीघ्र तैयार कर यहां डॉक्टरों और मेडिकल स्टॉफ की ड्यूटी सुनिश्चित करने को कहा गया है। उन्होंने चिकित्सालयों में आईसीयू की उपलब्धता भी सुनिश्चित करने को कहा है।