जान बचाने के लिए 15 मई तक लॉकडाउन को यथावत रखा जाए : विकास उपाध्याय

0
150

रायपुर। संसदीय सचिव व विधायक विकास उपाध्याय ने लाकडाउन को जारी रखने की मांग है। उनका कहना है कि छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण से गंभीर हुए हालात धीरे-धीरे सुधरते अब दिख रहे हैं और इसकी मुख्य वजह लाकडाउन ही है। ऐसे में इस स्थिति को और बेहतर बनाए रखने के लिए 15 मई तक लाकडाउन को बढ़ाया जाना चाहिए।

विकास उपाध्याय ने कहा कि इस बार आम जनता खुद चाह रही है कि जान है तो जहान है। जिस तरह से इस बार के लाकडाउन को आम जनता का समर्थन मिला है वह अभूतपूर्व है। ज्ञात रहे कि बढ़ते कोरोना के दूसरे वेव को रोकने विकास उपाध्याय ने सबसे पहले लाकडाउन लगाए जाने की वकालत की थी।

संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने कहा कि छत्तीसगढ़ में 15 मई तक लाकडाउन को बढ़ाया जाना चाहिए। आज छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण से गंभीर हुए हालात धीरे-धीरे सुधरते दिख रहे हैं तो सबसे बड़ा कारण यही है कि आम जनता ने इसे ही बेहतर विकल्प के साथ कारगर माना है और रोजाना नए संक्रमित मरीजों की सर्वाधिक संख्या वाले शीर्ष 10 राज्यों की सूची से बाहर निकल निकल कर राज्यों के क्रम में छत्तीसगढ़ 14वें स्थान पर आ गया है।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में प्रदेश में कोरोना संक्रमण की शुरुआत के बाद से अब तक पॉजिटिव पाए गए सात लाख 44 हजार 602 लोगों में से 6 लाख 14 हजार 693 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। इनमें से चार लाख 88 हजार 988 होम आइसोलेशन में और एक लाख 25 हजार 705 मरीज विभिन्न अस्पतालों और कोविड केयर सेंटर्स में इलाज के बाद ठीक हुए हैं।

वर्तमान में राज्य में रिकवरी रेट 82 प्रतिशत है। परंतु 15 मई तक यदि इस लाकडाउन को यथावत बनाये रखते हैं तो निश्चित तौर पर रिकवरी रेट 95 प्रतिशत तक बढ़ सकती है और संक्रमण को भी काफी कम करने सफलता मिल सकती है। उन्होंने कहा, अप्रैल की शुरुआत में रायपुर की संक्रमण दर 50% से अधिक थी। अब यह 29% तक घट गई है और हमारा टारगेट 15 मई तक 10% तक आ जाए होना चाहिए।