अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस और अपने जन्मदिन पर ही वर्ल्ड कप फाइनल खेलने वाली दुनिया की पहली खिलाड़ी

0
186

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर का जन्म अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन यानी 8 मार्च 1989 को मोगा में हुआ था. हरमन ऐसी पहली भारतीय महिला कप्तान हैं, जिन्होंने भारत को टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल तक पहुंचाने का गौरव हासिल किया है. हरनमप्रीत कौर हाल ही में 100 वनडे मैच खेलने वाली पांचवीं भारतीय महिला खिलाड़ी बन गई हैं. इसके साथ ही वह 100 वनडे और टी-20 मैच खेलने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं. मिताली ने 114 टी20 मैचों में 26.98 की औसत से 2186 रन बनाए हैं.

20 साल की उम्र में इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने वाली हरमनप्रीत कौर तब सुर्खियों में आई थीं, जब उन्होंने वर्ल्ड कप 2017 में भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में 115 गेंदों में 171 रन बनाए थे. शेष पढ़ें विज्ञापन के बाद….

Advertisement




इस दौरान उन्होंने अपनी पारी में 20 चौके और 7 छक्के जड़े थे. इस पारी में हरमनप्रीत का स्ट्राइक रेट 148.69 रहा था. हरमनप्रीत कौर पहली भारतीय महिला क्रिकेटर थी, जिन्होंने टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में शतक जड़ा था. वह क्रिकेट इतिहास की पहली खिलाड़ी भी हैं, जिन्होंने अपने जन्मदिन के मौके पर किसी आईसीसी के वर्ल्ड इवेंट के फाइनल में कप्तानी की थी.

हरमनप्रीत कौर वीरेंद्र सहवाग से प्रेरित है, जिनके तेजतर्रार क्रिकेट ने इस महिला क्रिकेटर को एक पेशेवर क्रिकेटर बनाने में मदद की. एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि मैं अक्‍सर बल्‍लेबाजी के दौरान वीरेंद्र सहवाग के शॉट को कॉपी करने की कोशिश करती थी. उनका कट शॉट काफी खतरनाक होता था. बॉल हमेशा ही चौके या छक्‍के के लिए जाती थी. उनके जैसा बनना मेरा ड्रीम था.

हरमनप्रीत कौर 2016 में ऐसी पहली भारतीय क्रिकेटर बनी थीं, जिन्होंने विदेशी टी20 फ्रेंचाइजी के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था. ऑस्ट्रेलियन टी20 लीग बिग बैश लीग (बीबीएल) में सिडनी थंडर्स के लिए खेला था. हरमनप्रीत कौर का नाबाद 171 का स्कोर विश्व कप के इतिहास में भारतीय महिला क्रिकेटर का दूसरा सर्वोच्च स्कोर है. इससे पहले इसी वर्ल्ड कप में मिताली राज ने न्यूजीलैंड के खिलाफ 109 रन की पारी खेलते हुए यह रिकॉर्ड बनाया था.

हरमनप्रीत कौर की वर्ल्ड कप 2017 की यह पारी महिला वर्ल्ड कप के नॉकआउट मैच की सबसे बड़ी पारी है. उनकी पारी के दम पर भारत ने 42 ओवरों के मैच में 4 विकेट पर 281 रनों का स्कोर खड़ा किया था और ऑस्ट्रेलिया को मात दी थी.