हाई प्रोफाइल हुआ मरवाही उपचुनाव-आज से होंगे रमन बृजमोहन और भूपेश जैसे दिग्गज नेताओं की सभाएं

0
65

छत्तीसगढ़।मरवाही उपचुनाव में जीत को लेकर दोनों राष्ट्रीय पार्टियां जूझती हुई दिख रही है।भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियां अपने प्रत्याशी को जिताने के लिए अपने कार्यकर्ताओं और नेताओं की फ़ौज के साथ लगे हुए है।मरवाही विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस और भाजपा दोनों राष्ट्रीय दलों ने जान फूंक रखी है।

एक तरफ जहां भूपेश सरकार के राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने मोर्चा संभाला हुआ है, वही दूसरी तरफ भाजपा के पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल अपने सिपहसालारों व दलबल सहित प्रचार में जुटे हुए हैं। इस विधानसभा उपचुनाव लो देखते हुए यह लगने लगा है जैसे यह मात्र एक सीट नही बल्कि सत्ता के शीर्ष पर खुद को साबित कर वर्चस्व प्राप्त करने की लड़ाई है।

पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के नाम से जाने जानी वाली मरवाही विधानसभा को जीतकर अपने नाम करने के लिए दोनों ही राष्ट्रीय दलों ने भारी भरकम टीमें तैनात कर रखी है । आज से प्रचार अभियान में दिग्गजों के आने की शुरुआत हो गई है। भाजपा के डॉ रमन सिंह आज से अपनी चुनावी रैलियों की शुरुआत कर रहे हैं ,तो कल से मुख्यमंत्री भूपेश खुद तीन दिवसीय प्रचार अभियान की बागडोर संभालने वाले हैं।

अजीत जोगी के गढ़ में अपनी शाख तलाशने कांग्रेस के मंत्री नेता व पदाधिकारियों ने पूरी ताकत झोंक रखी है।इसी क्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 3 दिवसीय मरवाही प्रचार अभियान पर मरवाहा आ रहे हैं।सीएम,कोडगार,जोगिसर,बस्तीबगरा,दानीकुंडी,लोहरी व नवागांव में 7 सभाओं के साथ विधानसभा में 1 रोडशो भी करेंगे।कांग्रेस की तरफ से पहले ही राजस्व मंत्री जयसिंह,पीसीसी चीफ मोहन मरकम, बिलासपुर विधायक शैलेश पांडेय शासन की रीति नीति योजनाओं व विकास की रूपरेखा को लेकर बीते 1 महीने से जनता के बीच हैं। वहीं इस प्रचार अभियान को गति देने व जीत की संभावनाओं को पुख्ता करने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल खुद कल से 3 दिनों तक मरवाही में चुनावी सभाएं के जरिये जनता से रूबरू होंगे।

भाजपा के भी दिग्गज नेता आज मरवाही पहुंचकर अपने प्रत्याशी की जीत को लेकर जनता से रूबरू होंगे।प्रदेश के बड़े कद्दावर नेता में पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल भी अपने कार्यकर्ताओं के साथ आज मरवाही पहुचने वाले है।जनता के बीच में बृजमोहन अग्रवाल का पहुचना भाजपा प्रत्याशी के लिए फायदेमंद साबित होगा।इस चुनाव में जीत से भाजपा को अपनी पुरानी खोई हुई अपनी सीट मिल जायेगी।और इस उपचुनाव में भाजपा की जीत से सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी में बड़ा भूचाल भी आ सकता है।अब इस उपचुनाव में कौन बाजी मारेगा यह तो मरवाही की जनता ही तय करेगी।चुनावी शतरंज की बिसात बिछ चुकी है । अब देखने वाली बात यह है कि ऊंट किस तरफ करवट लेता है।