घरेलू उड़ानों के लिए खुला पूरा रास्ता, भारत में आज से 100 फीसदी कैपेसिटी के साथ उड़ानों की शुरुआत

0
86

घरेलू उड़ानों के लिए अब पूरा रास्ता खोल दिया गया है। घरेलू उड़ानों से सभी तरह के प्रतिबंधों को हटाकर फुल कैपेसिटी यानी 100 फीसदी उड़ानों को मंजूरी दे दी गई है, जिससे अब घरेलू उड़ान से सफ़र करने वालों के लिए सहूलियत मिल गई है।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने इसको लेकर आदेश पहले ही जारी कर दिया है । कोरोना काल के प्रभाव के कारण अंतर्राष्ट्रीय घरेलू उड़ानों के लिए कई नियमों के तहत ही उड़ानों को इजाज़त दी गई थी। जिसमें घरेलू उड़ानों को 100 फीसदी से उड़ने के लिए इजाज़त मिल गई है।

सोमवार सो से घरेलू उड़ानों पर कोई पाबंदी नहीं, लेकिन करना होगा कोरोना नियमों का पालन

  • कोरोना संक्रमण को देखते हुए 100 फीसदी घरेलू उड़ानों के लिए भी कोरोना सुरक्षा नियमों को अपनाना होगा ।
  • मास्क के बिना एयरपोर्ट पर एंट्री नहीं हो सकेगी ।
  • शरीर का तापमान मानकों से ज्यादा होने पर आपको रोका जा सकता है ।
  • 72 घंटों का आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट जरूरी होगा ।
  • आरोग्य सेतु एप का डाउनलोड होना ज़रूरी ।
  • वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट भी मांगा जा सकता है ।

चरणबद्ध तरीके से खोली गईं घरेलू विमान सेवाएं

कोरोना माहामारी के कारण फ्लाइट में यात्रियों के लिए पाबंदी लगाई हुई थी। अप्रैल 2020 में कम कैपेसिटी से घरेलू उड़ानों की शुरुआत हुई, लेकिन इसे कैलिबिरेटेड तरीके से चलाया जा रहा था। अभी हाल ही में कोरोना के प्रभाव कम होता देख 85 फीसदी तक घरेलू उड़ानों की शुरुआत की गई थी आज बड़ा फैसला लेते हुए घरेलू उड़ानों को 100 फीसदी तक शुरू कर दिया गया है।

विदेशी सेवाएं जल्द बहाल होने में लगेगा वक़्त

अभी अंतर्राष्ट्रीय विमानों के संचालन को पूरी तरह नहीं खोला गया है यानी विदेश यात्रा को नॉर्मेल्सी की तरफ लौटने में अभी वक्त लग सकता है, अभी करीब 33 देशों के साथ भारत ने समझौता करके एअर बबल के तहत विदेशों के साथ विमान सेवाएं वंदे भारत मिशन एअर बबल के तहत लोगों को सेवा दी जा रही है, लेकिन सूत्र बता रहे हैं कि नागरिक उड्ड्यन मंत्रालय जल्द विदेशी सेवाओं को बहाल करने पर विचार कर रहा है।

नियमों का पालन हो इसके लिए एयरलाइंस कंपनियों को दी गई हिदायत

हालांकि, घरेलू उड़ानों को 100 फीसदी तक चलाने की अनुमति तो मिल गई है, लेकिन कोरोना नियमों को सख्ती से पालन करने के निर्देश भी एयरपोर्ट से लेकर विमान कंपनियों को दिए गए है ताकि कोरोना संक्रमण को बढ़ने से रोका जा सके।