Video-मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किसानों की आमदनी बढ़ाने की पहल, धान के अलावा गन्ने से भी बनाएंगे एथेनॉल

0
87

 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल प्रदेश कांग्रेस के मुख्यालय राजीव भवन में पत्रकार वार्ता ली। पत्रकार वार्ता में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, कृषि मंत्री रविंद्र चौबे और खाद्य मंत्री अमरजीत भगत भी उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एक बड़ी घोषणा की है। घोषणा के दौरान कहा कि धान के अलावा गन्ने से भी एथेनॉल बनाया जाएगा। सरकार ने प्लांट लगाने के लिए छह कंपनियों से एमओयू किया है।लगभग 1 साल के भीतर प्रदेश में प्लांट लगाने की बात भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कही है।

 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि प्रदेश में धान का उत्पादन होता है। इस्तेमाल में लाए जाने के बाद बचने वाले धान के अलावा गन्ने से भी एथेनॉल बनाया जाएगा। इस मुद्दे पर सरकार लगातार केंद्र सरकार से संपर्क मैं है भारत सरकार राज्य से 54 रुपए प्रति लीटर एथेनॉल खरीदेगी।

क्या होता है एथेनॉल-

एथेनॉल एक प्रसिद्ध अल्कोहल है। इसे एथिल अल्कोहल भी कहते हैं। एथेनॉल मेट्रो में मिलाकर गाड़ियों में फ्यूल की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे शर्करा वाली फसलों से भी तैयार किया जा सकता है। एथेनॉल में 35 फ़ीसदी ऑक्सीजन होता है। यह इको फ्रेंडली फ्यूल जीवाश्म ईंधन से होने वाले खतरों से सुरक्षित रखता है।एक्सपर्ट मानते हैं कि एथेनॉल फ्यूल हमारे पर्यावरण को गाड़ियों के लिए सुरक्षित होता है।

क्या होगा फायदा-

फ्यूल उस धान से बनेगा जो सेंट्रल पूल और स्टेट पूल में खरीदी के बाद भी बच जाता है इससे किसानों को धान बेचने के अलावा अतिरिक्त आय होगी ।जहां प्लांट लगेगा वहां लोगों को रोजगार भी मिलेगा। किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी।मंत्री रविंद्र चौबे ने इस दौरान केंद्र सरकार से मांग करते हुए कहा कि राज्य सरकार के साथ मिलकर केंद्र सरकार वहां प्लांट लगाए जिन जिलों में उत्पादन ज्यादा है।