Cyclone Gulab: IMD का Yellow Alert, इन इलाकों पर पड़ेगा चक्रवात का असर

0
209

Cyclone Gulab Alert: भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने ओडिशा और आंध्र प्रदेश के कुछ इलाकों में चक्रवात का अलर्ट जारी किया है. IMD के अनुसार बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव बन रहा है, जिसके चलते अगले 12 घंटे में चक्रवाती तूफान के साथ तेज बारिश हो सकती है. इसके अलावा IMD ने पश्चिम बंगाल के भी कई इलाकों में चक्रवात और बारिश की आशंका जताई है.

IMD के अनुमान के मुताबिक इस चक्रवात के अगले 12 घंटों में उत्तरी आंध्र प्रदेश (cyclone in north Andhra Pradesh) और उससे सटे दक्षिणी ओडिशा (South Odisha) के पार करने की संभावना है. इस चक्रवात को ‘गुलाब चक्रवात’ (Cyclone Gulab) के नाम से जाना जाएगा. चक्रवात के खतरे को देखते हुए IMD ने कई इलाकों में येलो अलर्ट जारी किया है.

अगले 12 घंटों में आ सकता है तूफान

IMD ने ट्वीट कर अपने अलर्ट में कहा, उत्तर और आस-पास के मध्य बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) में एक डिप्रेशन बढ़कर डी-डीप्रेशन में बदल रहा है, इसके 12 घंटों में तेज होकर चक्रवात बनने की संभावना है. IMD ने बताया कि ये 26 सितंबर की शाम तक कलिंगपट्टनम (Kalingapatnam) के आसपास दक्षिण ओडिशा उत्तर आंध्र प्रदेश के तटों को पार कर सकता है.

इन इलाकों में की चक्रवात से निपटने की तैयारी

आईएमडी के अलर्ट को देखते हुए कोलकाता पुलिस ने ‘यूनिफाइड कमांड सेंटर’ नाम से कंट्रोल रूम खोला है. इस इलाके के सभी पुलिस थानों और संभागों को हाई अलर्ट पर रहने के लिए कहा गया है. IMD ने क्योंकि कोलकाता और पश्चिम बंगाल के अन्य इलाकों में भारी बारिश की संभावना है. इसके अलावा NDRF की 15 टीम को पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों में 15 और कोलकाता के लिए 4 टीमों को बाढ़, राहत और बचाव के कार्यों के लिए तैनात किया है.

बता दें, इस चक्रवाती तूफान का नाम पहले से निर्धारित था. ये नाम पाकिस्तान ने दिया है. दरअसल, अरब सागर, हिंद महासागर तथा बंगाल की खाड़ी में उठने वाले चक्रवाती तूफानों के नामकरण की प्रक्रिया अलग होती है. जब चक्रवाती तूफान में हवा की गति 40 मील प्रति घंटा से ज्यादा होती है, तब उस चक्रवाती तूफान का नामकरण किया जाता है. इससे पहले यास और टाक्टे जैसे चक्रवाती तूफान आ चुके हैं.