गृह मंत्रालय ने राज्यों को किया ‘अलर्ट’, संक्रमण दर बढ़ने पर कंटेनमेंट जोन बनाने की दी सलाह

0
170

नई दिल्ली । केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्यों से Covid-19 की पाबंदियों में ढील देने की प्रक्रिया सावधानीपूर्वक क्रमबद्ध तरीके से लागू किए जाने को कहा है. गृह मंत्रालय ने कहा है, कोविड-19 के मैनेजमेंट के लिए टेस्ट, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट, वैक्सीनेशन और कोरोना प्रोटोकॉल की पांच सूत्री रणनीति पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए।

अस्पतालों में बेड्स की हो मॉनिटरिंग

गृह मंत्रालय ने राज्यों से कहा है कि जिलों को प्रशासनिक यूनिट्स के रूप में देखते हुए संक्रमण के मामलों की दर और अस्पतालों में बेड्स के भरे होने की स्थिति पर नियमित नजर रखनी चाहिए। अगर संक्रमण की दर और बेड्स पर मरीजों की संख्या बढ़ने का पूर्व संकेत मिलता है तो कन्टेनमेंट जोन बनाने की कार्रवाई की जानी चाहिए।

जहां एक्टिव मामले अधिक सावधानी की जरूरत

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने जुलाई महीने के लिए कोविड-19 मैनेजमेंट पर सभी राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन को सलाह दी. इसमें कहा गया है कि राज्यों को नियमित रूप से उन जिलों की निगरानी करनी चाहिए जहां प्रति 10 लाख जनसंख्या पर कोरोना वायरस के एक्टिव मामलों की संख्या अधिक है क्योंकि स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे और साजोसामान को अपग्रेड करने की आवश्यकता का अनुमान लगाने के लिए यह एक महत्वपूर्ण संकेतक है, ताकि जल्दी और त्वरित कार्रवाई की जा सके।

सावधानीपूर्वक दें ढील

केंद्रीय गृह सचिव ने कहा कि कई राज्यों ने कोरोना वायरस के एक्टिव केस में कमी होने के साथ ही प्रतिबंधों में ढील देना शुरू कर दिया है। भल्ला ने कहा कि प्रतिबंधों में ढील देने की प्रक्रिया को सावधानीपूर्वक तय की जानी चाहिए और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी सलाह के अनुरूप राज्यों द्वारा फास्ट और टार्गेटेड कार्रवाई की जानी चाहिए। पत्र में कहा गया है, ‘मामले की संक्रमण दर में बढ़ोतरी और भरे हुए बेड्स की संख्या बढ़ने के शुरुआती संकेत को देखते हुए रोकथाम उपाय और स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के अपग्रेडेशन के लिए आवश्यक कार्रवाई की जानी चाहिए।’

33 करोड़ से अधिक कोरोना वैक्सीन लगाई गईं

इस बीच सरकार लगातार कोरोना वैक्सीनेशन की गति तेज कर रही है। देश में बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन चल रहा है।स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि देश में कोविड-19 रोधी टीके की अभी तक दी गई खुराक की कुल संख्या बढ़कर 33 करोड़ से अधिक हो गई है। शाम 7 बजे तक देश में टीके की कुल खुराक की संख्या बढ़कर 33,25,81,423 हो गई है। इसमें मंगलवार को दी गई टीके की 33.79 लाख (33,79,525) खुराक भी शामिल हैं।