वीडियो:छत्तीसगढ़ कांट्रेक्टर एसोसिएशन: शासन के नियमों के कारण ठेकेदार हो रहे परेशान

0
845

रायपुर । छत्तीसगढ़ कांट्रेक्टर एसोसिएशन द्वारा आज बैठक के माध्यम से शासन के नियमों के कारण ठेकेदारों को लगतार परेशानियां का सामना करना पड़ रहा है उसकी सिलसिलेवार जानकारी देते हुये बताया कि राज्य शासन द्वारा रॉयल्टी की दरों की कटौती ठेकेदारों को स्वीकार्य है लेकिन बाजार दर अनुचित है। ठेकेदारों को अभी 5 वर्ष का रखरखाव भी करना है लेकिन कुल मिलाकर इस प्रकार की जो कटौती राज्य शासन द्वारा की जा रही है इस परिस्थिति में ठेकेदारों का निर्माण करना संभव नहीं है।

छत्तीसगढ़ कांट्रेक्टर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष वीरेश शुक्ला ने बताया कि बैठक के माध्यम से प्रदेश सरकार की रॉयल्टी की दरो को लेकर कहां गया कि हमें निश्चित ही यह स्वीकार है परंतु बाजार दर अनुचित है और बार-बार दर में जो कटौती हो रही है इसकी वजह से ठेकेदारों को खासी परेशानियां हो रही है। कुल मिलाकर जिस तरह बाजार दर में शासन द्वारा कटौती की गई है और आगे 5 वर्ष तक ठेकेदारों को रखरखाव करना है। ऐसे में निर्माण करना संभव नहीं है। दूसरी तरफ रोड निर्माण में gsp का एक m3 घन मीटर का रेट 1372 रू है,20 प्रतिशत पिलो में ठेकेदारों द्वारा अनुबंध किया गया है तो इसका 274 रू घटाने के बाद 1098 रू जिसमे 520 रू रॉयल्टी की कटौती शेष 578/-gst लेबर वेलफेयर और विभागीय शिष्टाचार के बाद निर्माण एजेंसी के पास कुछ भी नहीं बचता। और इस वजह से यह स्पष्ट होता है कि ठेकेदारों द्वारा भवन रोड ब्रिज एनिकेट  कैनाल का निर्माण संभव नहीं है।

साथी कांट्रेक्टर एसोसिएशन द्वारा यह मांग भी की गई है कि लोक निर्माण विभाग में निर्माण कार्यों के रखरखाव हेतु 5 वर्ष की समय सीमा निर्धारित की गई है जल संसाधन एनीकट बांध डैम 10 वर्ष के लिए रखरखाव की जो समय सीमा है। उसे संशोधित किया जाए अथवा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना और एडीबी द्वारा जो निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं, उसमें रखरखाव हेतु विभाग द्वारा भुगतान किया जाता है इस नियम को लागू किया जाए।