गृह विभाग के नव वर्ष मिलन समारोह में पहुंचे सीएम बघेल, पुलिस वालों से किया वन टू वन संवाद

0
147

रायपुर । छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नव वर्ष के पहले दिन छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर स्थित पुलिस ग्राउंड पहुंचे। इस दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी समेत कई अधिकारी मौजूद रहे। इस दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सुरक्षा बल के जवानों से चर्चा की, उनकी बातें सुनी और उनके उत्तर भी दिये।

नववर्ष 2021 मिलन समारोह में पहुँचे CM, गृहमंत्री, वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के सामने पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने अपने उद्बोधन में कहा कि पहली बार पुलिस वालों के बीच कोई CM आया है। उन्होंने कहा कि पहली बार थाने को टॉप टेन में पहला स्थान मिला, जो काफी सराहनीय है। इस दौरान डीजीपी ने भरोसा दिलाते हुए कहा कि छग पुलिस 2021 में ऐतिहासिक काम करेगी। वहीं गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि सरकार बनने के बाद विभाग ने अहम भूमिका निभाई है। विभाग ने क्राइम रेट कम किया है। कई केस में पुलिस विभाग ने बेहतर काम किया, साथ ही काम करने के तौर तरीके में काफी बदलाव हुआ है।

जनता के मन में विश्वास, अपराधियों के मन में डर बनाना आवश्यक था। हमने जनता में विश्वास कायम किया। गृहमंत्री ने इस दौरान आपराधिक मामले को लेकर बीच बीच में लगाये जाने वाले आरोपों पर कहा कि बीच बीच में बहुत ज्यादा हत्या, रेप की घटना की बात कहते रहते हैं। ऐसे में क्राइम को कम करने लोगों का भी सहयोग चाहिए, ताकि घटना बिल्कुल न हो। इस दौरान गृहमंत्री ने कहा कि लोग सुझाव दें, हम विभाग में लागू करेंगे। उन्होंने कहा कि विभाग में चर्चा लगातार होती रहती है। इस दौरान गृहमंत्री ने मुख्य सचिव से अपील करते हुए कहा कि गृह विभाग के लिये बजट का द्वार और खुले। बल की कमी है। पुलिसकर्मियों की समस्याओं को खत्म करना है। इस दौरान सीएम भूपेश बघेल, गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने इस दौरान पुलिस विभाग के पुस्तक का विमोचन भी किया।

नववर्ष मिलन समारोह में पहुँचे सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि सबसे पहले सबको नववर्ष की बधाई व शुभकामनाएं। उन्होंने कहा कि ये पहली बार ज़रूर है, आख़िरी बार नहीं है। इस दौरान सीएम ने कहा कि कार्यक्रम को लेकर सोचा नहीं था कि भाषणबाजी भी होगा।

सीएम ने अपने उद्बोधन की शुरुआत में जय जवान, जय किसान का नारा लगवाया। उन्होंने कहा कि जवानों की बदौलत जनता चैन की नींद सोती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर जगह पर जवानों का जीवन तनावपूर्ण होता है। नक्सली क्षेत्र में जवानों को खतरों के बीच काम करना होता है। बेहद तनावपूर्ण क्षण में ख़ुदको संयमित रखना कठिन काम है। उन्होंने कहा कि केवल जवानों को सम्मान और विशिष्टता हासिल है। सीएम ने कहा कि वर्दी से सम्मान मिलता है। विचलित होने पर सम्मान घट जाता है।

सीएम ने कहा कि इन दो सालों में ह्यूमन राइट्स ने कोई भी शिकायत नहीं की। हम पर विश्वास, विकास और सुरक्षा का दायित्व था। लोगों का विश्वास जितना बहुत बड़ी समस्या नहीं है। विश्वास जितना बहुत कठिन है। इन दो वर्षों में विश्वास जीते, अभी और विश्वास जितने की ज़रुरत है। विश्वास है कि सही दिशा में चल रहे हैं, सफलता मिलेगी ही। उन्होंने कहा कि हमारे लोग अपराध में शामिल हो जाएं, तो कठिन चुनौती आ जाती है। अब पुलिसिंग का काम शुरु हुआ है। परित्राणाय साधुनाम का उदाहरण कोरोनाकाल में दिखाई दिया। कोरोना में पुलिस ने जितनी सेवा की, वो प्रशंसनीय है। सीएम ने कहा कि लोगों का विश्वास जीतना सबसे महत्वपूर्ण है।