छत्तीसगढ़िया कोरोना वालेंटियर: देश के लिए परदेश से भेज रहे मदद

0
143

रायपुर । देश के लिए कुछ करने का जज्बा हो, तो कठिनाइयां खुद रास्ता दे देती हैं। परदेश में बसे भारतवंशियों ने यह साबित कर दिखाया है, जो कोविड संकट से जूझ रहे देशवासियों की मदद के लिए दृढ़ संकल्पित होकर चौबीस घंटे सातों दिन सेवा में जुटे हुए हैं। नार्थ अमेरिका छत्तीसगढ़ एसोसिएशन (नाचा) के बेनर तले अमेरिका में रह रहे छत्तीसगढ़िया भी कोरोना वालेंटियर्स के रूप लगातार स्वदेश के कोरोना मरीजों के लिए राहत भेज रहे हैं। इनमें कोरबा व छत्तीसगढ़ समेत देश के अनेक क्षेत्रों के अनिवासी भारतीय शामिल हैं।

विदेशी धरती पर देश की महक बिखेर रहे अनिवासी भारतीयों ने अपने कार्यों से दुनियाभर में भारत का मान बढ़ाया है। पिछले वर्ष कोरोना की पहली लहर में जहां उन्होंने अमेरिका में रह रहे भारत समेत विभिन्ना प्रांत व देश के लोगों की सहायता की, इस वर्ष भी सहायता के लिए सतत कार्यरत हैं। भारतीय संस्कृति, कला, स्वयंसेवा समेत अनेक क्षेत्रों में कार्य कर रही संस्था नाचा के बेनर तले यह टीम भारत के अनेक राज्यों के साथ विशेष रूप से छत्तीसगढ़ के लिए लगातार आर्थिक सहायता के लिए विभिन्ना चिकित्सा उपकरणों व अन्य तरह का सहयोग प्रदान कर रहा है। नाचा का अब तक सबसे बड़ा योगदान नाचा सास ग्रुप है। इसमें 12 वालेंटियर हैं, जो कि चौबीस घंटे व सातों दिन भारत के कोने-कोने में स्थित लोगों की मदद कर रहे हैं। नाचा संस्था ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सिद्ध किया है कि सहयोग और सेवा की भावना हो तो मीलों दूर से भी किसी की आंखों के आंसू थामकर चेहरे की मुस्कान लाई जा सकती है।

सीएम कोष में 5.51 लाख रुपये की राशि भेंट

नाचा की संस्थापक दीपाली सराओगी ने बताया कि इस वालेंटियर ग्रुप में कार्य कर रहे स्वयंसेवियों के इस कार्य की सराहना फेसबुक कंपनी ने भी की है। उन्होंने कोरोनाकाल में नाचा के प्रयायों के बारे में भी बताया। दीपाली ने ने बताया कि नाचा ने छत्तीसगढ़ की मदद करने मुख्यमंत्री राहत कोष में पांच लाख 51 हजार रुपये की राशि भेंट की है। इस वालेंटियर ग्रुप में नाचा की संस्थापक दीपाली सराओगी, सोनल अग्रवाल (सचिव), मोनिका अगवानी (संयुक्त सचिव), एश्विन सुखदेव, शांभवी शुक्ला, गीतांजलि बनर्जी, विवेक दुबे, राहुल श्रीवास्तव, कृति शुक्ला, अबीर राय, अरुण मिश्रा व दीपक केला शामिल हैं।

पांच हजार मास्क, एक हजार आक्सीमीटर भेजे

कोरबा निवासी नील जोसेफ अमेरिका में बैंकर हैं व नाचा के कैलिफोर्निया चैप्टर के प्रेसिडेंट हैं। उन्होंने बताया कि नाचा ने एम्स रायपुर व टाटिबंध पुलिस थाने में पांच हजार मास्क वितरित कराए। नाचा ने भारतीय समुदाय से जुड़कर एक हजार आक्सीमीटर भारत भेजे हैं। संस्था ने आत्मीय स्तर पर मदद करने कई गैर शासकीय संगठनों के साथ मिलकर ब्लड फार अस के जरिए पांच सौ से अधिक लोगों को देशभर में रक्त एवं प्लाज्मा सहायता की। नाचा ने छत्तीसगढ़ वेल्फेयर सोसायटी के साथ शेल्टर दिलाने में मदद की। नाचा ने सुमित फाउंडेशन के साथ जुड़कर उन्हें एम्बुलेंस सेवा में मददव अंजोर वेल्फेयर सोसायटी के साथ मास्क व सैनिटाइजेशन में मदद की।

500 लोगों को प्लाज्मा की व्यवस्था, अब ब्लड फार अस

ब्लड फार अस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी गणेश कर ने बताया कि यह पोर्टल अमेरिका में निवासरत छत्तीसगढ़ के नागरिकों की शुरू की गई संस्था है, जो जरूरतमंद लोगों के रक्त की व्यवस्था करने महत्वपूर्ण कार्य करेगी। इसके लिए रक्तदाताओं व रक्त की उपलब्धता का डेटाबेस रहेगा। रायपुर में एक काल सेंटर की स्थापना की जाएगी, जिसके माध्यम से जरूरतमंद लोगों तक मदद पहुंचेगी। संस्था किसी भी व्यक्ति की सहायता के लिए पूर्णतः निश्शुल्क कार्य करते हुए रक्तदाता को जीवनदाता के रूप में हर जगह हर समय उपलब्ध कराने तत्पर रहेगी।

राज्यपाल ने किया कोविड रिलीफ ग्रुप को सम्मानित

राज्यपाल अनुसूइया उइके के मुख्य आतिथ्य में नाचा ने एक वर्चुअल कार्यक्रम रखा गया, जिसमें उन्होंने नाचा के कोविड रिलीफ ग्रुप को सम्मानित किया व ब्लड फार अस पोर्टल का शुभारंभ किया। शिकागो से खुशी जैन ने गणेश वंदना पर भरतनाट्यम कर शुरुआत की। नाचा के अध्यक्ष गणेश कर ने विजन व मिशन के बारे में बताया। उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल ने नाचा की अब तक की उपलब्धियों के बारे में बताया। द्वितीय उपाध्यक्ष शत्रुघन बरेथ ने वर्ष 2021-22 में नाचा की कार्ययोजना बताईं। अंतर्राष्ट्रीय गायिका वंदना विश्वास ने वंदे मातरम गीत प्रस्तुत किया। नाचा के उपाध्यक्ष तीजेंद्र साहू ने इस पोर्टल के उपयोग का डेमो प्रस्तुत किया। इस संपूर्ण कार्यक्रम का संचालन नाचा के वरिष्ठ सदस्य अमित झा ने किया। अंत में कैलिफोर्निया चैप्टर के प्रेसिडेंट नील जोसेफ ने सबका आभार प्रकट किया।