छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स की सत्ता के लिए डाले वोट, विधानसभा जैसा रोमांच

0
141

रायपुर। छत्तीसगढ़ चैंबर आफ कामर्स का मुख्य महासंग्राम शुरू हो चुका है। रायपुर में वोटिंग के समय व्यापारियों के इस चुनाव में पूरी तरह से विधानसभा चुनावों की तरह रोमांच आ गया है और शहर का माहौल भी कुछ ऐसा ही बन गया है।

शुक्रवार को दिन भर शहर के मुख्य मार्गों से लेकर विभिन्न बाजारों में व्यापारिक पैनल ढोल-नंगाड़ों के साथ चुनावी प्रचार में व्यस्त रहे। वहीं पूरा मतदान स्थल जय व्यापार पैनल व व्यापारी एकता पैनल के बैनर-पोस्टरों से पट गया। साथ ही दोनों पैनलों ने अपने-अपने स्टाल भी लगा लिए।

जय व्यापार पैनल और व्यापारी एकता पैनल दोनों ही शुक्रवार देर रात तक रायपुर, बलौदाबाजार, भाटापारा, महासमुंद व गरियाबंद के 9048 मतदाताओं को अपनी ओर खींचने की रणनीति में लगे रहे।

साथ ही घर-घर व एक-एक दुकान जाकर मतदाताओं से जनसंपर्क किया गया। विधानसभा चुनावों की तरह व्यापारिक पैनलों ने भी राजधानी रायपुर को अलग-अलग जोनों में बांटकर अपने कार्यकर्ताओं की बैठक ली।

व्यापारिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पैनलों द्वारा गुरुवार रात से व्यापारियों के घर-घर जाकर संपर्क करना शुरू कर दिया। साथ ही शुक्रवार को राजधानी रायपुर को अलग-अलग जोनों में बांटकर कार्यकर्ताओं की बैठक हुई। एक बात और तय है कि रायपुर के मतदाताओं की भूमिका चैंबर की ताजपोशी में प्रमुख रहेगी। इसे देखते हुए ही व्यापारिक पैनलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी।

इन प्रमुख पदों पर सबकी निगाहें

वैसे तो छत्तीसगढ़ चैंबर आप कामर्स में प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश महामंत्री व प्रदेश कोषाध्यक्ष के साथ उपाध्यक्ष व मंत्री पद के भी चुनाव हो रहे हैं, लेकिन पूरे व्यापार जगत की निगाहें केवल प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश महामंत्री व प्रदेश कोषाध्यक्ष पर टिकी हुई हैं।

अमर-योगेश, अजय-राजेश व उत्तम-निकेश की टक्कर

चैंबर के इस चुनाव में जय व्यापार पैनल से प्रदेश अध्यक्ष के लिए अमर पारवानी, प्रदेश महामंत्री अजय भसीन, प्रदेश कोषाध्यक्ष उत्तम गोलछा और व्यापारी एकता पैनल के प्रदेश अध्यक्ष योगेश अग्रवाल, प्रदेश महामंत्री राजेश वासवानी , प्रदेश कोषाध्यक्ष निकेश बरड़िया के बीच सीधी टक्कर होगी। इनके साथ ही रायपुर जिला के आठ उपाध्यक्ष व आठ मंत्रियों के बीचे भी कड़ी टक्कर है।

राजनीतिक दलों की भी निगाहें

चैंबर के इस चुनाव में राजनीतिक दलों की भी निगाहें पूरी तरह से बनी हुई है। व्यापारिक सूत्रों का कहना है कि भले ही राजनीतिक पार्टियां सीधे रूप से हस्तक्षेप नहीं कर रही है, लेकिन अप्रत्यक्ष रूप से राजनीतिक पार्टियों का हस्तक्षेप बना हुआ है।

व्यापारियों का कहना बदलाव तय

व्यापारिक सूत्रों का कहना है कि चैंबर चुनाव के चार चरण हो चुके हैं और चारों चरणों में जबरदस्त मतदान हुआ है। इतना अधिक मतदान चैंबर चुनाव में कभी नहीं हुआ है। इसे देखते हुए निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि चैंबर के इस चुनाव में बदलाव तय है। अब यह कह पाना अभी मुश्किल है कि यह बदलाव कैसा होगा।

चैंबर संग्राम में 16,215 वोटर

कुल मतदाता-16,215

रायपुर जोन में मतदाताओं की संख्या- 9048

चार चरणों में करीब 88 फीसद मतदान हुआ है

पिछले चैंबर चुनाव में केवल 66 फीसद ही मतदान हो पाया था