Gangrel Dam: गंगरेल बांध के बोटिंग व पर्यटन क्षेत्र पर लगा प्रतिबंध

0
292

धमतरी। लाकडाउन खुलने के बाद पर्यटन क्षेत्र गंगरेल में सैलानियों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई थी। जंगल क्षेत्र में लोग जश्न और पार्टी मनाने पहुंच रहे थे। वहीं बांध में बोटिंग का लोग मजा लेने पहुंच रहे थे। इसकी शिकायत मिलते ही कलेक्टर ने बोटिंग व पर्यटन क्षेत्र पर प्रतिबंध लगा दिया है।

जिले में लाकडाउन खुलने के बाद जिला प्रशासन ने सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठानों समेत अधिकांश चीजों में छूट दे दी है। लोग छूट के बाद बेखौफ होकर घूम रहे हैं। पर्यटन एवं बोटिंग क्षेत्र से प्रतिबंध नहीं हटाया गया है, इसके बाद भी लोग लाकडाउन खुलने के कारण प्रत्येक रविवार को पूर्ण तालाबंदी के बावजूद सुबह से देर रात तक यहां घूमने पहुंच रहे हैं।

इससे सैलानियों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई

यहां धमतरी समेत पड़ोसी जिला बालोद, कांकेर व रायपुर समेत कई जगहों से सैलानी पहुंचने लगे थे। जिला प्रशासन ने पर्यटन क्षेत्र से प्रतिबंध हटाया ही नहीं था। भीड़ से यहां कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका बढ़ गई थी। कुछ जागरूक लोगों ने इसकी शिकायत जिला प्रशासन के पास की।

कलेक्टर पीएस एल्मा ने कहा कि लाकडाउन खोला गया है, लेकिन पर्यटन क्षेत्रों से प्रतिबंध हटाया नहीं गया है। ऐसे में लोग नियम का उल्लंघन कर पहुंच रहे हैं। पर्यटन क्षेत्रों में कोरोना गाइड लाइन के अनुसार अभी भी प्रतिबंध लगा हुआ है। लोग यहां न जाए नहीं तो कार्रवाई की जाएगी।

वहीं गंगरेल बांध में हो रही बोटिंग को तत्काल प्रभाव से बंद कराने आदेश दे दिया है। 21 जून को आदेश जारी होते ही बोटिंग बंद करा दिया गया है। साथ ही पर्यटन क्षेत्रों में लोगों की आवाजाही पूरी तरह से बंद हो गया है।

शुरू हो गई थी बकरा पार्टी

लाकडाउन खुलने के बाद यहां बकरा पार्टी का दौर भी शुरू हो गई थी। ग्रामीण अंचल समेत दूरदराज से लोग प्रत्येक शुक्रवार की सुबह से भारी संख्या में पिकअप व अन्य वाहनों से आ रहे थे। इससे गंगरेल बांध में भीड़ बढ़ने से कोरोना संक्रमण की आशंका बढ़ गई थी।

रुद्री व गंगरेल मार्ग में पहले की अपेक्षा ट्रैफिक बढ़ गई है। जश्न और पार्टी पर भी जिला प्रशासन ने फिलहाल प्रतिबंध लगा दिया है, ताकि लोगों की भीड़ पर्यटन क्षेत्रों में न जा सके।