सड़क पर लाश बनकर लेटे स्वास्थ्यकर्मी, रोजगार के लिए ओड़ा कफन

0
61

रायपुर । छत्तीसगढ़ के कोविड-19 से निकाले गए स्वास्थ्य कर्मियों ने अनूठा प्रदर्शन किया । शनिवार की सुबह 5:00 बजे प्रदर्शनकारी लाश बनकर सड़क पर लेट गए और साथ ही साथ पास बैठी युवतियां माथा पीट-पीटकर रो रही थी। यह प्रदर्शन बुढ़ापारा की सड़क पर करीब 3 घंटे तक चला। यह सभी अपने बदहाली के जिम्मेदारों को कोस रही थी और रोजगार की मांग कर रही थी।

स्वास्थ्य कर्मचारियों के इस प्रदर्शन की जानकारी मिलते ही पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों से कहा कि सड़क को जाम ना करें और फौरन अपना विरोध प्रदर्शन बंद करें साथ ही साथ रास्ता खाली करें।

पुलिस की बात सुनने के बाद भी कोरोनावारियर्स सड़क से हटने को तैयार नहीं हुए। जिस पर पुलिस के साथ बहस हो गई और पुलिस की टीम ने प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया।

आपको बता दें कि यह आंदोलन इस कारण से चल रहा था कि साल 2020 और साल 2021 की शुरुआत में कोविड-19 का भयावह रूप देखने को मिला। प्राण स्वास्थ्य कर्मचारियों ने कई कोविड सेंटर ,क्वॉरेंटाइन सेंटर और लैब में बतौर नर्स , वार्ड बॉय, लैब टेक्नीशियन का काम किया । बाद में सरकार ने आस्थाई सेंटर्स को बंद कर दिया। इससे यह युवा बेरोजगार हो गए। 8 हजार कर्मचारी यह मांग कर रहे हैं कि उन्हें रोजगार दिया जाए।