श्री गणेश विनायक ऑई हॉस्पिटल ने मनाया राष्ट्रीय नेत्रदान पखवाड़ा,सबसे अधिक कॉर्निया प्रत्यारोपण सर्जरी करने वाला पहला अस्पताल

0
255

राष्ट्रीय दृष्टिहीनता और दृश्य हानि सर्वेक्षण 2019 के आंकड़ों के अनुसार भारत में लगभग 70 लाख व्यक्ति विभिन्न नेत्र दोषों के कारण आंशिक व पूर्ण अंधेपन से पीड़ित हैं। इनमें से 2 लाख से अधिक व्यक्तियों को अपनी सामान्य, स्वस्थ दृष्टि बहाल करने के लिए प्रत्येक वर्ष एक या दोनों आंखों में कॉर्नियल प्रत्यारोपण सर्जरी की आवश्यकता होती है

रायपुर । छत्तीसगढ़ के अग्रणी नेत्र अस्पताल श्री गणेश विनायक आई हॉस्पिटल ने पिछले दो वर्षों में लॉकडाउन के दौरान 25 से अधिक केरेटोप्लास्टी सर्जरी और कुल 150 से अधिक केरेटोप्लास्टी सर्जरी सफलतापूर्वक की हैं। यह आंकड़ा अपने आप में यह साबित करने के लिए काफी है कि, यहां सर्जरी और सर्जरी के बाद की देखभाल बेजोड़ है।

डॉ अमृता मुखर्जी, जो एल.वी. प्रसाद आई इंस्टीट्यूट, हैदराबाद से प्रशिक्षित कॉर्नियल सर्जन हैं, इनके सक्षम मार्गदर्शन में रोगियों को व्यक्तिगत देखभाल का लाभ मिल रहा है।

केरेटोप्लास्टी का सीधा सा मतलब है कि, कॉर्निया को पूरी तरह से या आंशिक रूप से बीमारी के अनुसार बदलकर सर्जरी की जाती है। ग्राफ्ट को हाल ही में मृत व्यक्ति से लिया जाता है । जिसमें कोई ज्ञात बीमारी या अन्य कारक नहीं होते । जो दान किए गए ऊतक के द्वारा प्राप्तकर्ता के स्वास्थ्य के सम्बन्ध में जीवित रहने की संभावना को प्रभावित कर सकें।

कॉर्निया आपकी आंख के सामने की स्पष्ट परत है जो प्रकाश को केंद्रित करने में मदद करती है। ताकि आप स्पष्ट रूप से देख सकें। यदि यह क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो आपको इसे बदलने की आवश्यकता हो सकती है।

अस्पताल , आंखों की देखभाल और आंखों की सर्जरी के लिए अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस है। नेत्र रोग विशेषज्ञों की युवा और उत्साही टीम कॉर्निया प्रत्यारोपण को संभालने में सक्षम है। अब तक अस्पताल ने मध्य भारत क्षेत्र में अधिकतम संख्या में कॉर्नियल सर्जरी को सफलतापूर्वक अंजाम देने का एक सराहनीय रिकॉर्ड अर्जित किया है, जिसमें से पिछले 2 वर्षों में 150 केरेटोप्लास्टी सर्जरी की गई है।

श्री गणेश विनायक आई हॉस्पिटल की प्रसिद्ध नेत्र सर्जन डॉ अमृता मुखर्जी कहती हैं, “जिन रोगियों को कॉर्निया की जटिल बीमारी थी और उन्होंने उम्मीद खो दी थी। वे कॉर्नियल प्रत्यारोपण से लाभान्वित हुए थे। यह एक सर्जिकल प्रक्रिया है जहां एक क्षतिग्रस्त या रोगग्रस्त कॉर्निया को दान किए गए कॉर्नियल ऊतक (ग्राफ्ट) से बदल दिया जाता है। ”

उन्होंने आगे कहा कि, ”हमारे पास कुछ सक्सेस स्टोरीज हैं जैसे….

  • अमर तांडेकर, उम्र 45, स्थान दुर्ग ने केरेटोप्लास्टी करवाई थी। जिसके बाद उन्हें अपनी दृष्टि वापस मिल गई।
  • दीन दयाल देवांगन, उम्र 53, स्थान बेमेतरा को कॉर्नियल जटिलताएं थीं और जिनका केरेटोप्लास्टी द्वारा सफलतापूर्वक इलाज किया गया था।
  • सुन्दर लाल, उम्र 51, स्थान जांजगीर चांपा, को भी कुछ कॉर्नियल जटिलताएं हो रही थीं, जिसके कारण वे देख नहीं पा रहे थे और केरेटोप्लास्टी के बाद वे उनकी दृष्टि वापस मिल गई।

एक कॉर्निया प्रत्यारोपण, जिसे केरेटोप्लास्टी भी कहा जाता है, दृष्टि वापस ला सकता है, दर्द कम कर सकता है, और यदि यह सफेद और दागदार है तो संभवतः आपके कॉर्निया की उपस्थिति में सुधार कर सकता है। कॉर्नियल प्रत्यारोपण आंखों की कई समस्याओं को ठीक करता है, जिनमें शामिल हैं:

• चोट या संक्रमण की वजह से कॉर्नियल स्कारिंग
• कॉर्नियल अल्सर या संक्रमण से “घाव”
• एक चिकित्सीय स्थिति जो आपके कॉर्निया को बाहर निकाल देती है (केराटोकोनस)
• कॉर्निया का पतला होना, बादल छाना या सूजन होना
• वंशानुगत नेत्र रोग, जैसे फुच्स डिस्ट्रोफी और ऐसी अन्य स्थितियां
• पिछले अन्य आंख के ऑपरेशन के कारण होने वाली समस्याएं

डॉ अनिल गुप्ता , जाने माने नेत्र सर्जन व डायरेक्टर श्री गणेश विनायक ऑय हॉस्पिटल ने बताया की “राष्ट्रीय दृष्टिहीनता और दृश्य हानि सर्वेक्षण 2019 के आंकड़ों के अनुसार भारत में लगभग 70 लाख व्यक्ति विभिन्न नेत्र दोषों के कारण आंशिक व पूर्ण अंधेपन से पीड़ित हैं। इनमें से 2 लाख से अधिक व्यक्तियों को अपनी सामान्य, स्वस्थ दृष्टि बहाल करने के लिए प्रत्येक वर्ष एक या दोनों आंखों में कॉर्नियल प्रत्यारोपण सर्जरी की आवश्यकता होती है। हालांकि, चिकित्सा विशेषज्ञ इस तथ्य के बारे में शोक व्यक्त करते हैं कि नेत्रदान की कमी के कारण प्रत्यारोपण के लिए सालाना केवल 55,000 के करीब कॉर्निया ही उपलब्ध हो पाते हैं। जिसके कारण लगभग 1.5 लाख से अधिक लोग, जो शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं द्वारा पूरी तरह से ठीक हो सकते हैं, आजीवन अंधेपन का शिकार बने रह जाते हैं। हमें ख़ुशी है की छत्तीसगढ़ में नेत्रदान के प्रति जागरूकता बढ़ रही है।”