अफ़गानिस्तान की पॉप सिंगर अर्याना सईद ने पाकिस्तान की निंदा की, भारत को कहा शुक्रिया

0
154

अफ़ग़ानिस्तान पर तालिबान के क़ब्ज़े के बाद देश छोड़ने वालीं पॉप स्टार अर्याना सईद ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में पाकिस्तान की आलोचना की है तो वहीं भारत का शुक्रिया अदा किया है.



उन्होंने कहा कि वो पूरे अफ़ग़ानिस्तान की ओर से भारत का आभार व्यक्त करना चाहती हैं और धन्यवाद कहना चाहती हैं.

अर्याना ने कहा कि बीते कई सालों में उनको यह एहसास हो चुका है कि अगर पड़ोस में कोई अच्छा दोस्त है तो वो भारत है.

“भारत हमेशा हमारे साथ अच्छे से पेश आया है. वे हमारे सच्चे दोस्त हैं, वे बहुत मददगार और भारत में जो हमारे लोग वहां पर शरणार्थी हैं उनके लिए दयालु हैं. भारत में रह चुके जिस भी हर अफ़ग़ान शख़्स से मैं मिली उन्होंने हमेशा भारतीय लोगों के लिए अच्छा ही कहा.”

पाकिस्तान पर क्या बोलीं?

अर्याना ने कहा, “मैं उनको दोष देती हूँ. बीते कई सालों से लेकर अब तक हमने ऐसे वीडियो और सबूत देखे हैं जो बताते हैं कि तालिबान को सशक्त करने के पीछे पाकिस्तान है. जब भी हमारी सरकार किसी तालिबान को पकड़ती, वे पहचान देखते तो वह पाकिस्तानी व्यक्ति होता. ये बहुत स्पष्ट है कि ये वहीं हैं.”

“मैं उनको (पाकिस्तान) दोष देती हूँ और मुझे उम्मीद है कि वो पीछे रहेंगे और अब अफ़ग़ानिस्तान की राजनीति में दख़ल नहीं देंगे.”

इसके साथ ही उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से माँग की कि वे पाकिस्तान पर दबाव बनाएं और तालिबान की फ़ंडिंग रोकें.

अंतरराष्ट्रीय समुदाय को लेकर उन्होंने कहा, “मुझे उम्मीद है कि वे बैठेंगे और अफ़ग़ानिस्तान में शांति लाने के लिए समाधान ढूँढेंगे. मुझे उम्मीद है कि वे पाकिस्तान पर दबाव बना सकते हैं. मेरा मानना है कि हम अफ़ग़ानिस्तान में जिन बड़ी समस्याओं का सामना कर रहे हैं वे पाकिस्तान की वजह से हैं. हम जानते हैं कि तालिबान को पाकिस्तान फ़ंड देता रहा है.”

“उनको पाकिस्तान निर्देश देता रहा है, उनके बेस पाकिस्तान में हैं और वहां पर उन्हें ट्रेनिंग मिलती है. मुझे उम्मीद है कि सबसे पहले वे उनके सभी फ़ंड्स को काटेगा और पाकिस्तान को कोई फ़ंड्स नहीं देगा ताकि उनके पास तालिबान को फ़ंड देने के लिए पैसे न रहें.”

अंतरराष्ट्रीय समुदाय को भी नहीं बख़्शा

समाचार एजेंसी एएनआई के साथ अपने इंटरव्यू की शुरुआत करते हुए अर्याना ने कहा कि वो इस वाक्य से अपनी शुरुआत करते हुए बहुत निराश हैं कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय अफ़ग़ानिस्तान के लोगों को इस तरह अकेला छोड़ गया और तालिबान ने पूरे देश को सिर्फ़ चंद दिनों में क़ब्ज़े में ले लिया, ये बहुत ही अविश्वसनीय है.

“शक्तिशाली देश वहां पर गए और कहा कि इसकी वजह अलक़ायदा और तालिबान से छुटकारा दिलाना है. 20 सालों के बाद, अरबों डॉलर ख़र्च करने और कई जवानों के मारे जाने के बाद एकाएक उन्होंने अफ़ग़ानिस्तान छोड़ने का फ़ैसला कर लिया. यह चौंकाने वाला है.”

अर्याना छह दिन पहले अमेरिकी वायु सेना के विमान से देश से बाहर निकल गई थीं और इसकी जानकारी उन्होंने इंस्टाग्राम पर पोस्ट की थी.

उन्होंने पोस्ट में लिखा था कि उन्होंने कहा था कि वो देश छोड़ने वालों में आख़िर रहेंगी और अब वैसा ही कर रही हैं.

इसके बाद उन्होंने लिखा कि वो दुआ करेंगी कि उनके देश के लोग आत्मघाती हमलावरों और धमाकों के डर के बिना शांतिपूर्ण ज़िंदगी बिताएं. उन्होंने बताया था कि वो दोहा पहुंच गई हैं और यहां से इस्तांबुल जाएंगी.

एएनआई को दिए इंटरव्यू में अर्याना ने कहा है कि वो अपना करियर जारी रखेंगी क्योंकि अफ़ग़ानिस्तान के बाहर उनका करियर पहले से रहा है और पूरी दुनिया में उनके प्रशंसक हैं.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वो अफ़ग़ानिस्तान से बाहर ज़रूर हैं लेकिन वो अफ़ग़ानिस्तान के लोगों की आवाज़ बनी रहेंगी और कोशिश करेंगी कि अफ़ग़ानिस्तान और उसके लोगों की मदद की जा सके.