Musk, Bezos उपग्रह के माध्यम से भारत में High Speed Internet की सेवाएं देने के लिए है तैयार; Mittal और Ambani को देंगे टक्कर

0
55

Jeff Bezos और Elon MuskSunil Bharti Mittal और Mukesh Ambani को कड़ी टक्कर देने के लिए तैयार हैं। मुंकेश अंबानी और सुनील मित्तल की तरह वो लोग भी भारत में सैटेलाइट-आधारित हाई-स्पीड ब्रॉडबैंड इंटरनेट सर्विस में आने की कोशिश में जुटे हुए हैं  बेचने की टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, मस्क की उपग्रह इंटरनेट कंपनी स्टारलिंक और बेजोस ने भारत के दूरसंचार विभाग और अंतरिक्ष विभाग के साथ अलग-अलग बातचीत की ताकि उन्हें उपग्रह आधारित इंटरनेट कनेक्टिविटी सेवाएं शुरू करने की अनुमति मिल सके।

सैटेलाइट बेस्ड इंटरनेट सेवा देने की तैयारी में मस्क-बेजोस

रिपोर्ट में कहा गया है कि मस्क और बेजोसी की कंपनियों के सलाहकारों ने उपग्रह आधारित  ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्टिविटी की पेशकश करने के लिए दूरसंचार विभाग से संपर्क किया है और जल्द ही लाइसेंस के लिए उनके आवेदन करने की उम्मीद है। इस समय सुनील , मित्तल की भारती ग्लोबल, जो यूके स्थित वनवेब में सबसे बड़ी हिस्सेदारी रखती है एकमात्र ऐसी कंपनी है जिसकी पहले से ही भारत में उपग्रह-आधारित इंटरनेट सेवाओं को लॉन्च करने की योजना है। इसके पास पहले से ही दूरसंचार विभाग से राष्ट्रीय लंबी दूरी (एनएलडी) लाइसेंस है और अन्य भौगोलिक क्षेत्रों में भी सेवाएं शुरू करने की योजना है।

ग्रामीण क्षेत्रों और रेगिस्तान, पहाड़ी इलाकों को खास फायदा

ये सेवाएं दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों और रेगिस्तान, पहाड़ों और संवेदनशील क्षेत्रों जैसे कटे हुए इलाकों तक पहुंचने के लिए कठिन क्षेत्रों को जोड़ने में मदद करेंगी जहां पारंपरिक ब्रॉडबैंड बुनियादी ढांचा अभी तक नहीं पहुंचा है।दूरसंचार विभाग ने कहा कि इन कंपनियों को दूरसंचार कंपनियों के लिए दिशानिर्देशों का पालन करना होगा जब वे सेवाओं का प्रसार शुरू करेंगे। रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें वैध हस्तक्षेप और सुरक्षा प्रोटोकॉल जैसी अनुमतियों जैसे जनादेशों का पालन करना होगा।

मस्क की कंपनी ने संजय भार्गव को दी है जिम्मेदारी

स्टारलिंक ने पेपाल के संस्थापक सदस्य संजय भार्गव को नियुक्त किया है, जिसे मस्क ने भारत के निदेशक के रूप में सह-स्थापना की थी। स्पेसएक्स के संस्थापक ने सार्वजनिक रूप से इस्तेमाल किए गए ट्विटर के जवाब में भारतीय ब्रॉडबैंड बाजार में प्रवेश करने के अपने इरादे को सार्वजनिक रूप से बताया था, वह देश की नियामक प्रक्रिया का अध्ययन कर रहे हैं। आज यानि 1 अक्टूबर, 2021  से स्पेसएक्स में स्टारलिंक कंट्री डायरेक्टर इंडिया के रूप में शामिल होने के लिए उत्साहित हूं। पेपाल संस्थापक टीम भार्गव ने पहले एक लिंक्डइन पोस्ट में इस बात की जानकारी दी थी। ऑनलाइन रिटेलर दिग्गज अमेज़न पूरे ग्रह को कवर करने के लिए लो-अर्थ ऑर्बिट सैटेलाइट में लगे अपने ‘प्रोजेक्ट कुइपर’ के माध्यम से भारत के इंटरनेट स्पेस में प्रवेश करना चाहता है।