गांधी मैदान बम ब्लास्ट मे 4 दोषियों को फांसी, 2 को उम्रकैद की सजा

0
62

बिहार की राजधानी पटना में साल 2013 में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार रहे नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली के दौरान गांधी मैदान में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की विशेष अदालत ने सोमवार को सजा का ऐलान कर दिया। कोर्ट ने इस मामले में नौ दोषियों में से चार को फांसी की सजा सुनाई है। वहीं, दो दोषियों को आजीवन कारावास तथा दो को 10-10 साल कैद की सजा सुनाई है। इसके अलावा एक आरोपी को सात साल कैद की सजा सुनाई।

विशेष न्यायाधीश गुरविंदर सिंह मल्होत्रा की अदालत में इस मामले में दोषी करार दिए गए सभी 9 अभियुक्तों को पटना के बेऊर जेल से कड़ी सुरक्षा के बीच लाकर सोमवार सुबह पेश किया गया। इस मामले में एनआईए की विशेष अदालत ने 10 में से 9 अभियुक्तों को 27 अक्टूबर को दोषी करार दिया था, जबकि एक आरोपी को सबूतों के अभाव में बरी घोषित किया।

विशेष लोक अभियोजक ललन प्रसाद सिंह ने बताया कि एनआईए अदालत के विशेष न्यायधीश गुरविंदर मल्होत्रा ने 2013 को पटना के गांधी मैदान में सिलसिलेवार ढंग से हुए बम धमाकों मामले में इम्तेयाज अंसारी, मुजीबुल्लाह, हैदर अली, फिरोज असलम, नोमान अंसारी, इफ्तिखार, अहमद हुसैन, उमेर सिद्दिकी एवं अजहरुद्दीन दोषी करार दिया जबकि साक्ष्य के अभाव में फखरुद्दीन को बरी घोषित किया।

उन्होंने बताया कि इस मामले में एनआईए ने 11 अभियुक्तों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल किया था जिनमे से एक अभियुक्त की उम्र कम होने के कारण उसका मामला किशोर अदालत में ट्रांसफर हो गया था। उनके अनुसार बाकी बचे दस अभियुक्तों के खिलाफ एनआईए अदालत में सुनवाई चली। सिंह ने बताया था कि अभियुक्तों को सजा के बिंदु पर एक नवंबर को मामले की फिर सुनवाई होगी।

पटना के गांधी मैदान में 27 अक्टूबर 2013 को आयोजित बीजेपी की हुंकार रैली के मुख्य वक्ता तत्कालीन गुजरात के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी थे तथा मोदी सहित पार्टी के नेताओं के मंच पर पहुंचने के करीब 20 मिनट पहले मैदान में सिलसिलेवार धमाके हुए थे जिसमें छह लोगों की मौत हो गयी थी एवं करीब सात दर्जन लोग जख्मी हो गए थे।