विधायक विकास उपाध्याय ने सूर्य देवता को दिया अर्घ्य,छठी मैया से क्षेत्रवासियों के सुख-समृद्धि की करी कामना

0
71

रायपुर । लोक आस्था के महापर्व छठ पूजा के शुभ अवसर पर संसदीय सचिव एवं रायपुर पश्चिम विधायक विकास उपाध्याय ने अपने विधानसभा के विभिन्न नदी-तालाबों के घाटों में जाकर छठी मईया का आशीर्वाद प्राप्त किया।

उगते हुए भगवान सूर्य को अर्घ्य देकर व्रतधारी माता-बहनों ने अपनी सन्तान व परिवार के सुख-समृद्धि के लिए छठी मईया से आशीर्वाद मांगा । वहीं पुत्र स्वरूप क्षेत्रीय विधायक विकास उपाध्याय ने भी घाट में उपस्थित व्रतधारी माता-बहनों से आशीर्वाद रूपी फल एवं प्रसाद मांगकर छठ पूजा की बधाई दी और छठी मईया से प्रदेश के सुख-समृद्धि की कामना की।

तड़के सुबह 4 बजे से विधायक विकास उपाध्याय अपने विधानसभा के अलग-अलग नदी-तालाबों में जाकर छठ पूजा के कार्यक्रम में शामिल हुए। विधायक महोदय ने रायपुर पश्चिम के खारुन नदी तट पर महादेवघाट रायपुरा,छुइँया तालाब हीरापुर,टेंगना तालाब,आमातालाब समता कॉलोनी,मच्छी तालाब गुढ़ियारी,खमतराई तालाब एवं कोटा तालाब में सूर्योदय से पहले पहुंचकर क्षेत्रवासियों के साथ छठी मईया एवं उगते हुए सूर्यनारायण भगवान की पूजा-अर्चना की, तत्पश्चात वहाँ उपस्थित लोगों का हाथ जोड़कर अभिवादन करते हुए उन्हें छठ पर्व की बधाई दी।

इससे पहले विधायक विकास उपाध्याय बीती शाम को अस्त होते हुए सूर्य देवता की पूजा में भी शामिल होने नदी-तालाबों में पहुँचे और वहाँ उपस्थित श्रद्धालु जनों के साथ विधि-विधान से पूजा की। विकास उपाध्याय ने बताया कि उगते एवं अस्त होते सूर्य देवता की पूजा-अर्चना के पावन पर्व छठ पूजा पर क्षेत्रवासियों को बधाई देने साथियों के साथ अपने विधानसभा के विभिन्न नदी-तालाबों के घाटों में पहुँचकर श्रद्धालुओं को बधाई दी एवं छठी मईया और सूर्यनारायण स्वामी से क्षेत्रवासियों के सुख-समृद्धि की कामना की। छठ पर्व की तैयारियों को लेकर लगभग 1 हफ्ते से तैयारियां की जा रही थी जिसमें विधायक विकास उपाध्याय के निर्देश पर रायपुर पश्चिम में स्थित नदी-तालाब के घाटों की विशेष साफ-सफाई,रंग-रोगन व लाईट की व्यवस्था की गई थी।

विधायक विकास उपाध्याय ने छठ पर्व पर शासकीय अवकाश घोषित किये जाने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी का आभार व्यक्त किया हैं,उन्होंने कहा कि पूरे देश मे छत्तीसगढ़ दूसरा ऐसा राज्य हैं जहाँ छठ पूजा पर शासकीय अवकाश घोषित हैं यह उत्तर भारतीय समाज के लिए सम्मान की बात हैं।